Janta Store

78 Ratings

4.3

Duration
8H 17min
Language
Hindi
Format
Category

Fiction

Janta Store

78 Ratings

4.3

Duration
8H 17min
Language
Hindi
Format
Category

Fiction

Others also enjoyed ...

Listen and read

Step into an infinite world of stories

  • Listen and read as much as you want
  • Over 400 000+ titles
  • Bestsellers in 10+ Indian languages
  • Exclusive titles + Storytel Originals
  • Easy to cancel anytime
Subscribe now
Details page - Device banner - 894x1036
Cover for Janta Store
Cover for Janta Store

Ratings and reviews

Reviews at a glance

4.3

Overall rating based on 78 ratings

Others describes this book as

  • Mind-blowing

  • Unpredictable

  • Page-turner

Download the app to join the conversation and add reviews.

Most popular reviews

Showing 6 of 78

  • Praveen

    26 Aug 2020

    Page-turner

    #Storytel #Audiobook‘जनता स्टोर’ आठ घंटे से अधिक ऑडियो पर सुनी। अपेक्षाकृत अधिक वक्त लगा। इससे पहले ‘कसप’ की ऑडियो लगायी थी जो अठारह घंटे की थी, तो बीच में छोड़नी पड़ी। आठ घंटे की ऑडियो एक हफ्ते तक रोज टहलते या गाड़ी में सुनते निकल गयी। फिर भी जहाँ ‘औघड़’ छह घंटे में खत्म हुई थी, इसमें भी उतना ही समय लगना चाहिए था। मुझे मालूम नहीं कि प्रिंट में पन्ने कितने हैं। लेकिन, इन आठ घंटे के बावजूद कहानी की गति ऐसी है कि आदमी सुनता चला जाए। अनुराग कश्यप नहीं, मनमोहन देसाई वाला पेस। हालांकि कहानी एक अनुराग कश्यप के फ़िल्म की याद दिला रही थी, जो राजस्थान की छात्र राजनीति पर आधारित थी। मन में ‘आरंभ है प्रचंड..’ गीत भी चल रहा था। छात्र राजनीति कितनी भी घट गयी है, सबको थोड़ा-बहुत अनुभव होता ही है। उस मामले में नॉस्टैल्जिक भी है। कथावाचक मुकेश पाण्डेय जी की भी तारीफ़ कि पात्रों के साथ बढ़िया आवाज़ बदलते रहे। क्लाइमैक्स की राजनैतिक पेंच मजेदार है। यह किताब भी वेब-सीरीज़ या फ़िल्मी पटकथा जैसी ही लिखी गयी है। दर्शन या भाव-प्रधान लेखन का तड़का नहीं है। सपाट लेखन है। इसलिए भी ऑडियो सुनने में दिमाग कम लगता है।बढ़िया अनुभव। धूम-धड़ाका किताब। मसालेदार

  • Siddharth

    10 Jun 2024

    Unpredictable
    Mind-blowing
    Heartwarming
    Sad
    Cozy
    Thrilling

    पुन्हा कॉलेज जीवनात जाऊन आल्यासारखं वाटलं... मित्रांचं जीवाला जीव देणं..कॉलेजमधल्या निवडणुका (पण सुदैवानं किंवा दुर्दैवानं कधी अनुभवता आल्या नाहीत..पण कित्येक किस्से ऐकले होते) पण एकदम मज़ा आ गया👌👍

  • priyesh

    27 Apr 2022

    Page-turner

    A story that seems to have been known before but crafted beautifully. Good narrative.

  • Hemant

    15 Dec 2022

    Mind-blowing
    Thrilling
    Thought-provoking
    Smart

    कॉलेज जीवन की बेहतरीन किताब.आप खुद को उसमे खुद को देक सकते हैNice 👌👍👍👍👍👍

  • Madan

    17 Feb 2021

    Cozy

    Nice story.

  • satyam

    9 Feb 2020

    Fantastic book on student politics by naveen sir